नाम है जीवन (Hindi poem)

🌿🌴🌾💐❄️🌬️

न मैं किसी शायर की ग़ज़ल,

न किसी की हूंँ ड्रीमगर्ल।

न बहती नदी की हलचल,

न किसी की यादों में हर पल।

।।

न मैं हूंँ धूप की गर्माहट,

न हूँ जल की शीतलता।

न मैं हूँ‌ तेज़ हवा का झोंका,

न हूँ कोई हाथ आया मौका।

।।

क्या हूँ? कौन हूँ?

सोचती रही बरसों।

पूछती रही पहाड़ों से,

नदियों और किनारों से।

।।

अकेले रहकर जाना,

खुद को फुर्सत से पहचाना।

जान है, शक्ति है, और है मन।

नाम है मेरा जीवन।

🌊🌀☀️🌧️✨🌍

Published by Sneha

Thinker, Poetess, Instructional Designer

12 thoughts on “नाम है जीवन (Hindi poem)

  1. क्या वही जीवन जिसे मैंने जाना है…या जो अभी भी अनजाना है…

  2. बहुत खूब… मेरे तरफ़ से दो पंक्तिया

    जिंदिगी मे सदा मुस्कुराते रहो,
    हर दर्द तो अपनी हँसी मे छुपाते रहो,
    दिल का दर्द चेहरे पे  न आ सके,
    जिंदिगी को खुशनुमा बनाते रहो……
    https://madhukosh.com

  3. Hi I have been writing poetry blogs on my knowledge of WordPress for the last two-three years, I did not get good response, just got mail in WordPress saying that you can increase your views and follower by collaborating with other bloggers.your name was also suggested and if you also fall into my category, can you help me by doing a collaboration with me? , Please reply and tell your view on it so that I know what to do in future, thankyou

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: